मंत्रालय: 
विधि एवं न्याय
  • प्रस्तावित
    लोकसभा
    फ़रवरी 09, 2017
    Gray
  • पारित
    लोकसभा
    दिसंबर 19, 2017
    Gray
  • पारित
    राज्यसभा
    दिसंबर 28, 2017
    Gray
  • विधि और न्याय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने 9 फरवरी, 2017 को लोकसभा में रिपीलिंग और संशोधन बिल, 2017 पेश किया।
     
  • बिल 104 कानूनों को पूरी तरह से रद्द करने का तथा एक कानून में आंशिक एवं तीन अन्य कानूनों में मामूली संशोधन करने का प्रयास करता है।
     
  • कुछ कानूनों को पूरी तरह से रद्द करना : बिल 104 कानूनों को रद्द करता है जिन्हें बिल की पहली अनुसूची में सूचीबद्ध किया गया है। इनमें से 63 कानून संशोधन एक्ट्स हैं जहां इन कानूनों द्वारा किए गए परिवर्तनों को पहले ही संबंधित मूल एक्ट्स में शामिल किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त इनमें 20 ऐसे एक्ट्स भी शामिल हैं जिन्हें 1947 के पहले पारित किया गया था।
     
  • एक कानून में आंशिक संशोधन : बिल कराधान कानून (संशोधन) एक्ट, 2007 के तीन सेक्शंस को रद्द करता है। ये तीनों सेक्शंस अतिरिक्त उत्पाद शुल्क (विशेष महत्व का माल) एक्ट, 1957 के कुछ प्रावधानों को हटाने से संबंधित थे।
     
  • कुछ कानूनों में संशोधन : बिल तीन एक्ट्स में मामूली संशोधन करता है। इसमें एक सेक्शन में अनावश्यक शब्द को हटाया गया है। एक एक्ट के टाइटिल और एक सेक्शन के मार्जिकल हेडिंग में परिवर्तन किए गए हैं।
     
  • तीन एक्ट्स निम्नलिखित हैं : (i) राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी, विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान एक्ट, 2007, (ii) पशुओं में संचारी और संक्रामक रोगों की रोकथाम और नियंत्रण एक्ट, 2009, और (iii) निशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार एक्ट, 2009।

 

 

अस्वीकरणः प्रस्तुत रिपोर्ट आपके समक्ष सूचना प्रदान करने के लिए प्रस्तुत की गई है। पीआरएस लेजिसलेटिव रिसर्च (“पीआरएस”) की स्वीकृति के साथ इस रिपोर्ट का पूर्ण रूपेण या आंशिक रूप से गैर व्यावसायिक उद्देश्य के लिए पुनःप्रयोग या पुनर्वितरण किया जा सकता है। रिपोर्ट में प्रस्तुत विचार के लिए अंततः लेखक या लेखिका उत्तरदायी हैं। यद्यपि पीआरएस विश्वसनीय और व्यापक सूचना का प्रयोग करने का हर संभव प्रयास करता है किंतु पीआरएस दावा नहीं करता कि प्रस्तुत रिपोर्ट की सामग्री सही या पूर्ण है। पीआरएस एक स्वतंत्र, अलाभकारी समूह है। रिपोर्ट को इसे प्राप्त करने वाले व्यक्तियों के उद्देश्यों अथवा विचारों से निरपेक्ष होकर तैयार किया गया है। यह सारांश मूल रूप से अंग्रेजी में तैयार किया गया था। हिंदी रूपांतरण में किसी भी प्रकार की अस्पष्टता की स्थिति में अंग्रेजी के मूल सारांश से इसकी पुष्टि की जा सकती है।